सोमवार, 21 दिसंबर 2015

लड़ाया तो सब ने

Edit Posted by with No comments

लड़ाया तो हमे सबने



लड़ाया तो हमे सबने ,
किसी ने अल्लाह के नाम पे लड़ाया ,
किसी ने राम के नाम पे लड़ाया ,
जो नही लड़े उन्हें दगाबाज कह के लड़ाया ।

इंसान को इंसान बनाता है

Edit Posted by with No comments
हर दर्द को हम उठाने के लिये तैयार है
सिर्फ उस एहसास के लिये.....
वही एहसास ........
जो इंसान को इंसान बनाता है ।

दुनिया का मंजर

Edit Posted by with No comments

नंगी आँखों से जब देखा दुनिया  का मंजर



नंगी आँखो से देखा जब हमने दुनिया का मंजर,

मुख में बाणी थी मीठी मगर पीठ के पीछे था खंजर ,

आज यही आलम दुनिया में हर तरफ पसरा है ,

जिस धरती पर नाज था हमें आज हो गया है बंजर ।।

वर्तमान समय में पुलिस

Edit Posted by with No comments

वर्तमान समय में पुलिस सरकार की नौकर है ।

और सरकार गुंडे भरष्ट्रचारियों एवं पूंजीपतियों की ।।

आम आदमी

Edit Posted by with No comments

जिस दिन हमारे देश के आम आदमी सुधर जायेगें ।

उस दिन इस देश में भष्ट्राचार फैलाने वाले नही रह पायेगें ।।

अब ठोकरे खाने का मुझे खौफ नही

Edit Posted by with No comments

अब ठोकरे खाने का मुझे खौफ़ नही


अब ठोकरे खाने का मुझे खौफ नही ,

गिरता हूँ तो और संभल जाता हूँ मैं ,

फिर एक नये साँचे में ढल जाता हूँ मैं ।

मेरे ही सपने टूट जातें क्यूँ

Edit Posted by with No comments

मेरे ही सपने टूट जाते क्यूँ , 

बनने से पहले आशियाँ उजड़ जाते क्यूँ , 

फुर्सत में मिलेगें तो बताऊंगा , 

समय से पहले पड़ी है माथे पे लकीरे क्यूँ ।

एक तिनका ही सही

Edit Posted by with No comments

क्यों घुटन नैराश्य , कुंठा त्रास की बातें करे ,


एक तिनका ही सही विश्वास की बातें करे ,


आपका ये दो मुहाँ दर्शन समझ आता नही ,


ले संकल्प फिर सन्यास की बातें करे ,


साथ रहते दुरिया लेकर बहुत दिन जी लिये ,


दूर रहकर अब दिलों से पास की बातें करें ,


खौप के बादल छटे हर स्वप्नदर्शी आँखों से ,


इंद्रधनुषी रंग भी मधुमास की बातें करें ,


दर्द तो दर्द है इसकी जाती की पहचान क्या ,


हर किसी के दर्द के अहसास की बातें करें ।