शनिवार, 16 जनवरी 2016

कोई कहता मुझे राम से मिला 

Edit Posted by with No comments

कोई कहता मुझे राम से मिला





कोई कहता मुझे राम से मिला ,
कोई कहता मुझे रहमान से मिला ,
कोई कहता मुझे मेरे गुरु से मिला ,
कोई कहता मुझे इशू से मिला ,
पर मैं कहता हूँ हिन्दू को मुसलमान से मिला ,
बाइबल , गीता , ग्रन्थ और कुरान को मिला ,
बैशाखी , दीपावली और रामजान को मिला ,
पहले मुझे मेरे हिन्दुस्तान से मिला ,
न चाहिये मुझे मुक्ति न चाहिये मुझे भक्ति ,
बस इंसान को हे ईश्वर इंसान से मिला ।

लोकतन्त्र की हिफाजत

Edit Posted by with No comments

         लोकतन्त्र की हिफाजत





दुनिया गर इसे हिमाकत कहे तो ,हाँ हमें हिमाकत करनी होगी ,

अब हमे खुद होकर खुदा की वकालत करनी होगी ,

माना सच्च की लड़ाई में कुछ अपनों से ही खिलाफत करनी होगी ,

अब जनता को ही लोकतन्त्र की हिफाजत करनी होगी ।।

तन का मत अभिमान किया कर

Edit Posted by with No comments

तन का मत अभिमान किया कर



तन का मत अभिमान किया कर ,
'सेहत 'का सम्मान किया कर ।

कल की चिंता में न 'आज' का
पल -पल में न अपमान किया कर ।

अंतिम ठौर ठिकाना सबका ,
मरघट का भी ध्यान किया कर ।

प्रेम सूत्र है इस जीवन का ,
इसका भी गुण गान किया कर ।

देह देवता का मन्दिर है ,
मत इसको दूकान किया कर ।

अपनी ''हंसी''खनकने दे तू ,
मुस्कानों का मान किया कर ।

भारत माँ ने जन्म दिया है ,
इस सब पर बलिदान किया कर ।

पीछे कर दे सारी दुनिया ,
आगे हिन्दुस्तान किया कर ।।